Diary / Calendar 2022 Diary/Calendar 2022

माननीय राज्य मंत्री

माननीय श्री रामकिशोर (नानो) कावरे
राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), आयुष विभाग

श्री रामकिशोर (नानो) कावरे का जन्म 9 नवम्बर, 1976 को ग्राम बघोली जिला बालाघाट में एक सामान्य परिवार में हुआ इनके पिता श्री शिवलाल  कावरे एवं माता श्रीमती रत्ता कावरे हैं। श्री कावरे 3 भाइयों में से सबसे छोटे है। अपनी प्रारंभिक स्कूली शिक्षा शासकीय विद्यालय बालाघाट से पूर्ण की इसके पश्चाूत् उच्च शिक्षा हेतु जटाशंकर त्रिवेदी स्नातकोत्तर महाविद्यालय बालाघाट में दाखिला लिया एवं स्वामी विवेकानंद के विचारों से प्रेरित होकर भारत के सबसे बड़े छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् से जुड़े जिसमें छात्र हित के अनेको आंदोलनों का श्री कावरे ने कुशल नेतृत्व किया। उन्होने एम.ए.(राजनीति शास्त्र) तक की शिक्षा प्राप्त की। इसके पश्चात श्री कावरे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़े। वर्ष 2009 में इनका विवाह श्रीमती कीर्ति कावरे से हुआ इनके 1 पुत्र एवं 1 पुत्री है। व्यवसाय से कृषक श्री कावरे की समाज-सेवा और क्रिकेट में प्रारंभ से ही अभिरूचि रही है।  श्री कावरे ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत सन् 1999 में ग्राम पंचायत बघोली जिला बालाघाट के पंच के रूप में की एवं  उपसरपंच भी रहे। श्री कावरे ने कुशल नेतृत्व  की बदौलत वर्ष 2003 में जनपद पंचायत सदस्य का चुनाव जीता एवं जनपद पंचायत बालाघाट के अध्यक्ष बने इसके पश्चा्त् वर्ष 2006 में भारतीय जनता युवा मोर्चा बालाघाट के जिला अध्यक्ष के रूप में श्री कावरे को नियुक्त किया गया। 

Shri Shivraj Singh Chouhan

वर्ष 2008 में श्री कावरे ने पहली बार परसवाड़ा विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीता एवं तेरहवी विधानसभा के सदस्य निर्वाचित हुए। कुशल नेतृत्व के कारण श्री कावरे का संगठन में प्रभाव बढ़ता गया और प्रदेश संगठन ने इन्हें वर्ष 2010 मे भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश महामंत्री का दायित्व प्रदान किया।

श्री कावरे वर्ष 2018 में दूसरी बार के परसवाड़ा विधानसभा क्षेत्र से सदस्य निर्वाचित हुए। इन्होंने 2 जुलाई 2020 को मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के मंत्री-मण्डल में राज्य मंत्री पद की शपथ ग्रहण की। श्री कावरे को आयुष मंत्रालय (स्वतंत्र प्रभार) एवं जल संसाधन की जिम्मेदारी दी गई। कोरोना काल के समय श्री कावरे नेतृत्व में आयुष विभाग ने सराहनीय कार्य किये कोरोना महामारी के दौरान आयुष विभाग ने आयुर्वेद, होम्यो पैथी, युनानी एवं योग से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की दिशा में महत्व पूर्ण कदम उठाये साथ ही त्रिकटु काढ़ा और आरोग्य़ कसायन जैसी औषधि से कोरोना के नियंत्रण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

अंतिम अद्यतन: 01-07-2022

कुल आगंतुक: 184112